Product ManufacturingMost Profitable Carpet Making Business in India | भारत का सदाबहार करोबार...

Most Profitable Carpet Making Business in India | भारत का सदाबहार करोबार “कालीन बनाने का बिज़नेस”

Carpet making business: कारपेट/कालीन हमारे घर में उपयोग की जाने वाली एक महत्वपूर्ण सामग्री है क्योंकि घर में ऐसे कई स्थान होते हैं जहाँ कालीन की आवश्यकता होती है. भारत में बने कालीन या गलीचे की मांग आज पूरी दुनिया में है. 

जिस कारण भारत कालीनों का सबसे बड़ा निर्माता और निर्यातक बन चुका है. भारत के बने 65% से 85% कालीन दुनिया के लगभग 70 से अधिक देशों में आयात किए जाते हैं.

भारत में बने आलिशान कालीन/गलीचे (carpet) भारत की तुलना में अन्य देश जैसे- अमेरिका, फ्रांस व यूरोप के कई देशों में 5 गुना अधिक दाम पर बिकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि विदेशों कौशल की कद्र भारत की तुलना में कहीं अधिक होती है.

Carpet-making-business

भारत में कालीन बनाने की कला भारत की प्राचीन परंपराओं में से एक है. दुनिया में लगातार बढ़ती आलिशान कालीन की मांग (carpet demand) और डिजाइनर कालीन की विविधता (carpet texture) के कारण बढ़ती प्रतिस्पर्धा की बदौलत carpet making business एक समृद्ध उद्योग बन चुका है, और मुनाफे के नए आयामों को पैदा कर रहा है.

मौजूदा बाजार में कई कारोबारी कालीन बनाने का बिज़नेस स्थापित कर लाखो रुपये का मुनाफा बना रहे हैं.  इसके अलावा कालीन निर्माण “कपड़ा रीसायकल/पुनर्चक्रीकरण व्यवसाय (Fabric waste recycle business)” को भी बढ़ावा देता है.

तो प्रश्न यह है कि यदि आप अथवा कोई इच्छुक उद्यमी कालीन बनाने के कारोबार को शुरुआत करना चाहता है तो उसे Carpet Making Business idea को स्थापित करने के लिए किन-किन घटकों/तथ्यों को जानना जरूरी है?

साथ ही carpet business को कितने तरीको से शुरू किया जा सकता है?, carpet business plan को कैसे तैयार किया जाए, जिससे लागत और मुनाफे का प्रबंधन सुनिश्चित किया जा सके?, carpet के ग्राहक कौन-कौन से होते हैं? इन सभी व अन्य सम्बंधित समाधान जानने के लिए पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें. तो चलिए शुरू करते हैं-

Carpet making business तहत कारपेट के प्रकार-

मौजूदा बाजार डिमांड के मुताबिक कई प्रकार के कालीन बनाए जाते हैं. carpet mat बनाने वाले कारोबारी अच्छे से जानते हैं कि कालीनों का उत्पादन ग्राहक की डिमांड के आधार पर निर्धारित होता है. मूलरूप से carpet का निर्माण दो तरीकों से किया जाता है-

  1. हैंडमेड कारपेट (कपास व नायलान आधारित फैब्रिक)
  2. मशीन मेड कारपेट (कपास व नायलान आधारित फैब्रिक)

ये दोनों श्रेणियां कालीन उद्योग के अंतर्गत ही आती है और इन दोनों श्रेणियों में हस्तनिर्मित (handmade) कारपेट की कीमत (handmade carpet price) अधिक होती है. मौजूदा दौर में आवश्यकता व उपयोग के आधार पर कई प्रकार के कालीनों का निर्माण किया जाता है. मसलन-

  1. घरों की फर्श पर बिछाने वाला- floor carpet, living room carpet, yoga carpet, बालकनी कारपेट, गलियारों, तहखाने की फर्श पर तथा घरेलू आयोजनों में उपयोग होने वाला कारपेट.
  2. व्यवसायिक स्थानों व कमर्शियल स्थानों के उपयोगार्थ- waterproof plastic carpet, green grass carpet, carpet flooring, red carpet, designer room carpet व carpet mat uses in medical industry.
  3. विशेष समारोह के कमर्शियल स्थानों के उपयोगार्थ- green mat carpet, green grass carpet, carpet grass व red carpet mat आदि व अन्य.

Carpet making business plan-

छोटे स्तर पर कालीन बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए और अपने बिजनेस को सफल बनाने के लिए इच्छुक उद्यमी को सबसे पहले अपने वांछित बिजनेस का business plan बनाने की आवश्यकता होती है. एक सफल business plan ही किसी भी व्यवसाय के सफल होने की मंशा परिभाषित करता है.

carpet making business plan में सबसे पहले इच्छुक उद्यमी को कई तथ्यों पर गहनता से विचार एवं आवश्यक घटक जुटाने की आवश्यकता होती है. मसलन-

  1. स्थान की आवश्यकता
  2. कर्मचारियों का चयन
  3. कच्चे माल की पूर्ती व कच्चे माल की कीमत
  4. मशीनरी का चयन
  5. बिजली व अन्य सम्बंधित घटकों की आपूर्ति
  6. संभावित ग्राहक की खोज
  7. उत्पाद की मार्केटिंग
  8. उत्पाद की खपत के साथ carpet design का आंकलन व
  9. व्यवसाय की लागत
  10. व्यवसाय का पंजीकरण
Carpet-making-business-कालीन-बनाने-का-बिजनेस

Carpet making business स्थपित करने के लिए स्थान की आवश्यकता-

छोटे स्तर से carpet making business की शुरुआत 500 से 700 sqft area से की जा सकती है. इसके अलावा आपके चयनित स्थान पर वाहन आवागमन की सुचारू व्यवस्था का होना आवश्यक है.

वहीं यदि आप carpet making business को बड़े स्तर पर स्थापित करना चाहते हैं तो बड़े स्तर पर 1000 sqft working area और तैयार माल को संरक्षित रखने आदि के लिए कम से कम 2000 sqft गोदाम की आवश्यकता होगी.

Carpet business में कर्मचारियों की आवशयकता-

अमूमन हथकरघा/हस्तशिल्प जैसे उद्योग को सफल बनाने में सबसे प्रमुख भूमिका उत्पाद बनाने वाले कारीगरों/कर्मचारियों की होती है. छोटे स्तर पर carpet making business स्थापित करने के लिए कम से कम 03 कर्मचारियों की आवश्यकता होती है.

जिसमें 02 carpet के कारीगर और 01 मैनेजर हो सकता है. वहीं हथकरघा/हस्तशिल्प उद्योग के बड़े स्तर पर कर्मचारियों की संख्या 15 से लेकर 25 तक हो सकती है. हथकरघा/हस्तशिल्प का कार्य करने वाले अधिकतर कर्मचारी गृहणी व अन्य रूचि लेने वाले होते हैं.

मशीनरी द्वारा carpet making business स्थापित करने के लिए कम से कम 07 से 15 कर्मचारियों की आवश्यकता होती है. जिसमें पैटर्न बनाने वाले कारीगर, मशीन ओपरेटर, निर्मित कालीन से अतिरिक्त काट-छांट वाले कर्मचारी व सफाई कर्मचारी शामिल होते हैं.

evergreen-carpet-making-business-कालीन-बनाने-का-बिजनेस

Carpet making business में कच्चे माल की पूर्ती व कच्चे माल की कीमत-

Carpet making/manufacturing industry में कालीन बनाने के लिए नए व पुराने कपड़े को रीसायकल कर तैयार किये गए कपड़े की आवश्यकता होती है. यहां कच्चे माल का चयन बाजार की मांग के आधार पर निर्धरित किया जाता है. कालीन बनाने के लिए-

  1. कपास के धागे (ऊनी, सूती)
  2. सिंथेटिक यार्न (Nylon, Polyester)
  3. रंग व पैकिंग सामग्री

अमूमन जिन कालीनों का निर्माण निर्यात को ध्यान में रख कर किया जाता है, उसे प्राय: उच्च गुणवत्ता के फैब्रिक का इस्तेमाल किया जाता है. वहीं घरेलू जरूरतों के हिसाब से ही वांछित फैब्रिक का चयन कर carpet का निर्माण किया जाता है.

कारपेट बनाने के लिए कच्चे माल की पूर्ती के लिए इच्छुक उद्यमी को कपड़ा मिल व कपड़ा रीसायकल प्लांट से संपर्क करना चाहिए. रही बात कच्चे माल की कीमत की तो कच्चे माल की कीमत बाजार उतार-चढ़ाव के कारण घटती-बढ़ती रहती है.

Carpet making business में मशीनरी का चयन व बिजली की आपूर्ति –

भारत में व्यवसायिक स्तर पर कालीन या गलीचे का निर्माण (Carpet making in India) करने के लिए मौजूदा मार्केट में कई तरह की मशीनें देखने को मिलती हैं. हालांकि यदि आप carpet making business के क्षेत्र में आना भविष्य बनाना चाहते हैं तो सबसे carpet तैयार करने वाली मशीनों की गहन जानकारी और मशीनों की कार्य प्रणाली को अच्छे से समझना जरूरी है.

कालीन उद्योग में कालीनों को तैयार करने के लिए कई प्रकार की मशीनों का उपयोग उनकी कार्य प्रकिया अथवा प्रणाली के आधार पर किया जाता है. व्यवसायिक स्तर पर carpet बनाने के लिए-

  1. Rug Tufting Machine
  2. Thread Trimming Machine
  3. Thread Extraction Machine
  4. Sewing Machine (सिलाई मशीन)
  5. Printing Machine
  6. Yarn/Thread Setting Machine
  7. Coating Machine

आदि मशीनों की सहायता ली जाती है. मौजूदा बाजार में ये मशीने (carpet making machine) ऑटोमेटिक व मैनुअल दोनों प्रकार की उपलब्ध हैं. यदि आप ऑटोमेटिक मशीनों का चयन करते हैं तो ऑटोमेटिक मशीनों के सफल संचालन के लिए इलेक्ट्रिक लोड मशीन की कार्य क्षमता पर निर्धारित होता है.

कालीन कारोबार के संभावित ग्राहक-

बिछावन अथवा बिछौना, इंसान की मूलभूत प्राथमिक आवश्यकताओं में से एक है, जिसकी आवश्यकता हर एक इंसान को होती है. कालीनों उत्पादों में विविधता के कारण आज कालीन जैसे उत्पाद के ग्राहक हम सभी हैं.

व्यवसायिक दृष्टी से अगर बात की जाए तो भारत में बनने वाले कालीन के ग्राहक भारत सहित पूरे विश्व में फैले हुए हैं. कालीनों को royalty का प्रतिक भी माना जाता है, जिस कारण कालीनों का उपयोग कमर्शियल स्थानों व शासकीय स्थानों की फर्श पर बिछावन के तौर पर किया जाता है.

उत्पाद की खपत के साथ carpet design का आंकलन-

एक सटीक business plan में सबसे पहले कारोबार के उत्पादन और उत्पाद खपत के पैमाने को आंकलित किया जाता है. carpet making business स्थापित करने से लेकर उत्पाद निर्माण और मार्केट में बेचने लायक बनाने तक हर चरण में बाजार का विश्लेषण और उत्पाद की खपत का आंकलन किया जाता है.

ऐसा करने से जहां एक तरफ इच्छुक उद्यमी को अपने उत्पाद को बेहतर बनाने की प्रेरणा मिलती है, वहीं दूसरी तरफ वह अपने प्रतिस्पर्धियों के काम को आंकलित कर अपने उत्पाद में विवधता लाकर अपने उत्पाद को अन्य से बेहतरीन बना सकता है.

Carpet business की मार्केटिंग-

बाजार का सबसे कठोर नियम है- “जो दिखता है वही बिकता है.” इसका मतलब यह है कि बढ़िया से बढ़िया उत्पाद अगर अपने वांछित ग्राहक तक नहीं पहुंच पा रहा है तो उस उत्पाद के बिकने की सम्भावना न के बराबर ही होती है.

आप जानते ही हैं कि वर्तमान दौर पूरी तरह से विज्ञापन आधारित मार्केटिंग का चल रहा है. जहां छोटे से छोटे उत्पाद की बड़े से बड़े स्तर की मार्केटिंग की जाती है. कालीन निर्माण व्यवसाय की मार्केटिंग के लिए हमारे द्वारा किये गए सर्वे के कुछ अंशों का उल्लेख किया जा रहा है. एक कालीन निर्माता ने अपने व्यवसाय की शुरुआत और मार्केटिंग की नींव कुछ ऐसे रखी-

उन्होंने अपने व्यवसाय की शुरुआत “योग क्रिया (Yoga)” के लिए उपयोग में लिए जाने वाले कालीनों/Yoga carpets mat निर्माण से की. आप जानते ही हैं कि भारत सहित दुनिया भर में योग का चलन बढ़ता जा रहा है. जिससे Yoga carpets mat की मांग दिन प्रति दिन बढ़ रही है.

carpet निर्माण के बाद उन्होंने इसकी मार्केटिंग के लिए बड़ी मात्रा में ऑनलाइन मीडिया पर विज्ञापन प्रसारण का सहारा लिया. जो सबसे सटीक रणनीति साबित हुई. किसी भी उत्पाद को बेचने एक प्रभावी विज्ञापन बनाना जरूरी होता है. विज्ञापन में उत्पाद के गुणों व वह उत्पाद कहां-कहां पर उपयोग में लिया जा सकता है, उसका विवरण कम शब्दों में संकलित कर किया जाता है.

दूसरा ग्राहक की आवश्यकता के अनुसार भी विज्ञापन का सहारा लेकर उत्पाद की मार्केटिंग भी सबसे कारगर रणनीतियों में से एक है.

Carpet making business का पंजीकरण-

बाजार में carpet making business शुरू करने से पहले प्रत्येक व्यवसायीय/उद्यमी/कारोबारी व व्यापारी को अपनी कम्पनी/एजेन्सी का पंजीकरण ROC (Registrar Of Companies) के तहत कराना अनिवार्य है, क्योंकि पंजीकरण/रजिस्ट्रेशन लेना ही किसी भी व्यापार को शुरू करने के लिए पहला मानक है. पंजीकरण/रजिस्ट्रेशन के बाद ही आप अपनी कम्पनी/एजेन्सी और उत्पाद का प्रचार मार्केट/बाजार में कर सकते हैं.

कालीन व्यापार के लिए आप भारत सरकार द्वारा विकसित किये गए उद्यमी पोर्टल MSME पर अपने व्यापार की लागत के अनुरूप सूक्ष्म, मध्यम और लघु उद्योग अंतर्गत श्रेणियों में पंजीकरण कराना होता हैं. इसके साथ ही आपको GST No. भी लेना अनिवार्य है, उत्पाद की गुणवत्ता के लिए ISO Certification भी करा सकते हैं. इसके साथ ही आपको इन लाइसेंसों की भी जरूरत होगी-

  1. Trade License,
  2. NOC प्रदूषण नियंत्रण और अग्नि शामक नियंत्रण बोर्ड
  3. IEC License (एक्सपोर्ट करने के लिए)

कालीन व्यवसाय की लागत (carpet making business cost)-

छोटे स्तर पर carpet making business को स्थापित करने के लिए इच्छुक उद्यमी को कम से कम 03 से 05 लाख रूपये के निवेश की आवश्यकता होती है. इस लागत में चयनित स्थान की लागत शामिल नहीं है. वहीं यदि आप Carpet manufacturing को बड़े स्तर पर स्थापित कर संचालित करना चाहते हैं तो आपको बड़े स्तर पर स्थापित करने के लिए 12 से 15 लाख रूपये निवेश (Carpet manufacturing Plant cost) करने की आवश्यकता है.

बताई गई निवेश धनराशी व्यवसाय की कार्य क्षमता, मशीन चयन व उत्पादन के आधार पर भिन्न हो सकती है, साथ ही कर्मचारियों के मानदेय पर भी निवेश लागत में भिन्नता आ सकती है.

कालीन व्यवसाय में मुनाफा (Profits in carpet making business)-

carpet making business में मुनाफा प्रति carpet के अनुसार भिन्न-भिन्न होता है. इसके अलावा मुनाफा उत्पाद की गुणवत्ता तथा की गई मार्केटिंग के आधार पर निर्धारित होता है.

मोटे तौर पर कालीन निर्माण व्यवसाय में मुनाफा प्रति कालीन 18% से 30% तक आसानी से कमाया जा सकता है. साथ ही यदि आप अपने कालीन/carpet product की मार्केटिंग प्रभावी तरीके से करते हैं तो यह मुनाफा 35% से 40% तक भी जा सकता है.

इसके साथ ही यदि कालीन से सम्बंधित अन्य प्राथमिक व्यवसाय carpet cleaning business जो कि स्वयं में एक interdependent business है को अपनाते हैं तो आप दोहरे तरीके से कालीन उद्योग से अच्छा मुनाफा बना सकते हैं. यदि आप carpet cleaning business के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो कृपया हमें comment में लिखें.

FAQ.

कालीन निर्माण व्यवसाय के तहत कितने तरह के उत्पाद का निर्माण किया जा सकता है?

carpet making business के तहत-
1. कालीन निर्माण (carpet making)
2. दरी निर्माण (mat making)
3. कम्बल निर्माण (blanket making)
4. गलीचा निर्माण
5. पांवदान निर्माण

कालीन किसे कहा जाता है?

मोटे धागों से निर्मित किया गया मोटा और चादर की तुलना में भारी कपड़ा कालीन कहलाता है. जिसे बिछावन के तौर पर उपयोग में लिया जाता है.

क्या फटे-पुराने कपड़े से कालीन का निर्माण किया जा सकता है?

जी हां! यह पूरी तरह से मुमकिन है बल्कि फटे-पुराने कपड़े को रीसायकल कर कालीन का निर्माण करना waste to wealth के सकारात्मक विचार को बल देता है. जो आर्थिक दृष्टी से तगड़े लाभ को इंगित करता है.

अंत में-

यदि आप अपना खुद का एक सफल कारोबार/उद्यम बनाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको अपनी चीजों को देखने, परखने और आंकलन करने के नजरिये पर जोर देना जरूरी है और जब आप ऐसा करेंगे तो आपका साधारण mindset एक business mindset में बदलने लगेगा. जो आपके वांछित बिजनेस की सफलता के लिए जरूरी है.

पॉजिटिव माइंडसेट के साथ आप एक सफल व्यवसायीय बनने की राह पर निकल सकते हैं और भविष्य के भावी व्यवसायीय, उद्यमी या कारोबारी भी बन सकते हैं. आज की पोस्ट में इतना ही ….

आशा है इस लेख “कालीन बनाने का बिज़नेस (Carpet making business)” से आपको carpet business की अहम जानकारी जरूर मिली होगी, साथ ही यदि कुछ छूट गया हो या कुछ कहना या पूछना चाहते हों तो कृपया comment box में लिखें…. पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने साथियों व जरूरतमंद लोगों के साथ share करना बिल्कुल न भूलें, आपका एक share शायद किसी को नई दिशा दिखा दे……

“शुभकामनाएं आपके सफल कारोबारी/व्यवसायिक भविष्य के लिए”

धन्यवाद!

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular